मन मोहना पोखरा

बुनु थारु- कहाई बा, डुले घुमे जैबो टे मन चङगा हुइठ। लौवा ठाउँके भ्रमण कैबो टे मनहे खालि आनन्द किल नै मिलठ, एकओरसे उ ठाउँक रितिरिवाज, चालचलन, संस्कार ओ ज्ञानगुनके बात फेन सिखे मिलठ। ओम्हेफेन साथीसंगी ओ घरपरयार सँगे जाइ पैना टे छुट्टे मजा बा। मै पोहोर सालिक डश्यम सपरयार पोखरा गैल रहुँ। २०६८ असोज १४ गतेक दिन हम्रे काठमाडौ जमलसे पोखरा जैना टुरिस्ट बसमे चौह्रली। अन्य गाडीले यम्ने भाडा मँहगा बा। हमार पाछे दुई विदशी जोडी रहीँट। ओइने इजरायलके रहीँट, ओइनसँगे हम्रै बत्वैटी गैली। 

काठमाडौसे सिधे घरे देउखर जाइबेर मुगलीनसे नारायणघाट लागजाए, अप्की मुगलीन कट्के हमार बस डोसर डगरओर गैल। यहोर मोर लाग लावा ठाउँ रहे, मै आप झन कब पोखरा पुगब कैहके आउर आतुर हुइँलु। जैटी जैटी मै कुलेखानी परियोजना फेन डेख्लुँ। भित्तर हेरे जैना मन लागटह, मने हम्रे वहाँ जैना खासे प्लान फेन नैबनैले रही। डगरक हरियाली ओ शान्त वातावरण एकदम मजा लागटेहे। एकदम नाउँ सुन्लक बन्दीपुर कना ठाउँ फेन बसेमसे डेख्लुँ ओ आदिकवि भानुभक्तके स्मारक बनाइल चुँदी रम्घा ठाउँ फेन हेरे नैछुटैलुँ। पोखरा पुगेपुगे ‘डाँडाको नाक’ कना ठाउँक नाम सुनके बहिन्या भूमिका ओ मै खोब हँस्ली। सायद उ ठाउँक बनोट नाकहस हुइहिस कना मै अनुमान कैलुँ। आखिर विभिन्न ठाउँ हेरटी जाइत जाइत पोखरा पुग्ली। एकदम लावा ओ अनौठोपन महसुस हुइटेहे।
बुवा ट्याक्सी खोज्ला ओ गैली हमे्र लेकसाइड ओर। वहाँ हम्रे ‘नोरसाङ होटल’ मे बास बैठ्ना निधो कैली। हम्रे एकघचिक बिसाके फेवाताल ओर नेगे गैली। हमार होटलसे करिब १० मिनेटके दुरीम रहे फेवाताल। फेवाताल कना खोब पह्रगैल रहे, मने आझ अपन आघे प्रत्यक्ष डेखे पाइबर मोर मन टे खुशीले नाचटेहे। रङगीविङगी लाइन लागल सयौ लाउ बरी सुहावन बिल्गाइटेहे। हम्रे फेन एक्ठो लाउमे चौह्रली। छोटेम एकचो मानपुर मौसिक घर जाइबेर राप्ती लडियम लाउ चौह्रले रहुँ। आझ ढेर बरस पाछे लाउमे सयर कैना मौका पैटीरहुँ। एकदम आनन्दके महशुस हुइटेहे, मने लाउमे मोर डरपोकी डाई डराके मँुह बिच्काइटेहे। मै डुंगा यात्रामे ढेर फोटो खिच्लु ओ खिचैलु फेन।
लाउमे चौह्रे पैलक खुशीक मारे काहुन कब फेवातालके बीचेम रहलक तालबाराही मन्दिर पुग्ली कना फेन पटा नै पैलुँ। वहाँ भगवानके दर्शन कैके सक्कुजाने फोटो फेन खिच्ली। फेवाताल हेरट हेरट भुख फेन लाग्रख्ले रहे। बुवा अपन थारू चिनल संघरियक होटल मे सेकुवा खवाइ लैगैँला। होटलके नाउँ थारू भाषा संस्कृति झल्कैना खालके रहे ‘झिंर रेष्टुरेण्ट’। वहाँ हम्रे झीँर गोझ्के सेकल भैँसीक सेकुवा खैली। बुवा हम्रहिन खाना खवाइक लग अपन चिन्हल डोसर संघारीक जापनीज ‘मोमोतारो होटल’मे लैगैँला। मने हमार लग वहाँ नेपाली खाना बनटेहे। थारू फेन विदेशी स्तरीय होटल खोलके यी व्यवसायमे प्रगति कैलक डेख्के मही बडी खुशी लागल। वहाँ सब म्यानेजर से छोट लेभलसम थारू रहीँट, ऊ फेन देउखरियन। खाना खैनासे पहिले हम्रहिन जापनीज प्रसिद्ध खाना ‘सुसी’ खवैला होटलीया डाडुन्के। खैना तरिका नैजानके बरी फसाद परल रहे। मै टे झन सस मे पुरा एकठो टुुक्रा डुबाके का खाइजाइटहुँ, सस झरगार इमेर जोर लागल की झन्डे बेहोस नैहुइँलु। डाडुनके नेपाली खाना एकदम मीठ खवैला। बुवा खानक पैसा टिरक खोज्ला, मने डाडुनके एक पैसा फेन नैलेला। वहाँ लोगनके हम्रहिन प्रति दर्शा इल मैगर मैया ओ सत्कार मै कबु नै बिस्रैम। खाना खाके हम्रे सुट्ना होटल ओर लग्ली । डश्यक अवसरमे हो वा आउर दिन फेन हो पोखरा दुल्हनिया हस झकिझकाउ रहे। वहाँक डान्सबारमे हिन्दी गीत गुन्जटी रहे। लावा माओवादी चहा जटना भारतके विरोध करे, ऊ हमारिक हरेक हर क्षेत्रमे आधिपत्य जमैले बा कना इहीसे बिल्गाइठ।
डोसुर दिन हो पोखरा घुमाइक लग ट्याक्सी काल्ही रिर्जभ कैलैरही पाँची बजे बिहानी हम्रे ट्याक्सीम पोखरक महत्वपूर्ण पर्यटकीय ठाउँ ओर घुमे गैली। सब्से पहिले आघे हम्रे साराङकोट गैली। वहाँसे सुर्योदय हुइलक दृश्य महा मनमोहक बिल्गाइल। ढेर पर्यटक विभिन्न देशके वहाँ सुर्योदयके दृश्य अवलोकन करे आइल रहीँट। वहाँसे कञ्चनजङघा, अन्नपूर्ण, माछापुच्छ्रे हिमाल अपन सुनौलो मुस्कानले हम्रहिन पोखरम स्वागत बा कहटा कना भान मिलटहे। उहाँसे हम्रे विन्धव्यवासिनी मन्दिर मे दर्शन करे गैली। वहाँ दर्शन करुइया भक्तजनके मनके भीड रहे। भीड नियन्त्रण करक टन स्काउटके विद्यार्थीलोग लागलरहिँट। वहाँ भर्खर ज्योतिष विद्या सिख्टीरलक ढेर छुटी लर्कन डेख्गैल। ओइने हम्रहिन टीका फेन लगाडेला।
ओकर बाद हम्रे डेभिस फल्स फेन गैली, जिही पातले छाँगो फेन कैहजाइठ। पर्यटकीय हिसाबले एकदम आकर्षित कर्ना ठाउँ लागल। झरनक एकदम मनोरम दृश्य बिल्गटहे। ओकरपाछे गुप्टेश्वर गुफा गैली। ओकर भित्तर छोटनक मन्दिर फेन रहे। उ गुफा एकदम कलात्मक लागल, मम्मीन् आउर मजा लग्लिन। महा भारी क्षेत्रफल मे फैल्लक महेन्द्र गुफा फेन अवलोकन कैैगैल। ओकर भित्तर गैली टे पानी टप टप चुहटेहे, मम्मी डराके डूरसम जाइ नै डेली, उहाँ निकरना ओरसे धरमद्वार फेन रहे।
घूम्लक भुख महाजोरसे लाग्टेहे। कलवा खाइ होटल खोजे लग्ली। टेक्सीवाले मजे होटलेम लैगइल, ‘माइली होटल’ के थकाली खाना बरा स्वादिष्ट लागल। हम्रे आब घुम्ना सक्कु कार्यक्रम ओरवाके घरेओर जैना तरखरमे लग्ली, मने मन्के झाउ झाउ पानी परटी रहे। ट्याक्सीम बसपार्क जाइबेर एकघचिक फेन मोमोटारो होटलमे विदा लेहे गइली। वहाँ हम्रहीन जौक चिया खवैला, चिनी नै डारल चिया रलेसेफे स्वादमे लावापन रहे। हम्रे विदावारी होके बसपार्क ओर गैली बस पक्रे। टुरिष्ट बसमे अइलक उ््क बस टे सेसिँन खालिस चौह्रलक नैमजा से गन्ढाइटहे। पोखरा छोरेबेर नैमजा अनुभव कैलुँ। अभिन ढेर ठाउँ घुम्ना इच्छा रहे, मने का कैना हो समय अभावले उ पुरा हुइनै सेकल, घरे भइवक पूज्बुधाउ कार्यक्रमले हाली पुग्ना रहे। सक्कु जाने एकचो जाइपरना ठाउँ हो पोखरा। लम्मा विदा रना डश्या अपन परिवार सँगे भेटभाट कैके खालिस नाही लावा ठाउँ फेन घुम्के मनाइ सेक्ठी। मै अप्की डश्यम सपरिवार लुम्विनी घूमे गैलुँ। अप्नेनके कहाँ घूमे गैली?
हालः एनआइसी कलेज
डिल्लीबजार, काठमाडौं
साभारः बिहान २०६९

One thought on “मन मोहना पोखरा

Leave a Reply

Your email address will not be published.