खोल थरुहटके, राजनीति मधेशके (थारु भाषा)


Bijay kumar GAchdar and Laxman Tharuमिनराज चौधरी-
म्वार घाँटी रेट डेलसेफे यी जिउ मधेशी पार्टीम कब्बु नैजाई, अप्नहुँक्र म्वारपर विश्वस्त हुईँ यी कहाई म्वार नै हो। सभा, सम्मेलन, बैठकम एकबार नै दशबार से ढिउर कहटी अइलक लक्ष्मण थारूक कहाई हो। मधेशी जनाधिकार फोरम (लोकतान्त्रिक) के अध्यक्ष विजयकुमार गच्छदारह गद्दार कहटी लडियक दुई किनारअस राजनीतिक धरातलम रहल थारू एकाएक २०६९ असोज १८ गते उफे पार्टीक अध्यक्ष जसिन मनैया अक्कलेह उह गद्दार कहती गरियाईल पार्टीम भ्वाँर पेल्ल। ओकर पाछ थरुहट तराईसहित नेपाल राष्ट्रिय राजनीतिम बरवार डुम्मा कुछ दिनक लाग उठल।
मधेसी दलम लक्ष्मण थारू ओ योगेन्द्र थारू आगैल कैक मधेसी नेतनक खुशीलेक भुइँयम ग्वारा नैरलहिन। मने टल्वामन उठल लहरअस कुछ दिनपाछ किनारम पुग्क हेरागिल। थरुहटक क्वाखमसे पैदा होक, बाह्रल पांैह्रल यी नेतन एकाएक मधेसी पार्टीमन कसिक गैल? थरुहट आन्दोलनक शहीदनक सपना साकार पर्बी कैक राप्ती ओ नारायणी लडियक ढिक्वमन कसम खाइल नेतन मधेसी पार्टीम एकफाले जैना कारण का? थरुहट आन्दोलनक उद्देश्य उपर प्रतिकूल असर पुगुइयनक विरुद्धमन लठ ओ भठ लेक आन्दोलनक अगुवाई करम कहना मोहनलाल चौधरी मधेसी पार्टीमन जैना कारण का? सक्कु थारू नेतन अस्ट हुइट, आब केकर विश्वास कर्ना हो? यी सवाल आम थरुहट तराईबासी बरा जोरले कर्टी बाट। यकर चितबुफ्दो जवाफ थरुहटसे बर्हिगमन हुइल नेतन डिह नैसेक्ठुइट। डिहीफे कसिक? जहाँ बरवार नीहित स्वार्थ नुकल बा, उ चिज जनतनक आघ कसिक कह सेकही।
विद्यार्थीनक स्ववियू निर्वाचनक तयारीक सिलसिलाम पंक्तिकारसे गैल जेठ १९ गते कैलाली टीकापुरक जम्रक ढिक्कवम रहल ग्रीन एसिया होटलम लक्ष्मण थारूसे संजोगले भ्याट हुईल। जहाँ जनकराज चौधरी, रामप्रसाद चौधरी लगायत कुछ थरुहटक नेतन बरा दत्तक अन्तर्संवादम जमल रलह। जनकजी लक्ष्मण थारूह प्रश्न कर्टी रलह– थरुहट तराई पार्टीक अगुवाई करल मनै थरुहटप्रति विश्वास काजे नईहुइल? समानान्तर वैकल्पिक राजनीतिक शक्ति बनैना आवश्यकता काजे? उत्तरम ँअब्बक लराई हम्र अक्कहले लर नैसेक्बी, आब निर्णायक लराई कि ट कैलाली, कञ्चनपुरसे हुई कि ट नवलपरासीसे हुई। अर्थात् संघीयता बिरोधी अखण्डवादी तत्व हुँकहन्से हुई, उहमार मधेसीन्से बिना मिल्ल थरुहट सम्भव नै होँ नम्मा भूमिका बहन्टी लक्ष्मण थारू थरुहट तराई लोकतान्त्रिक परिषद् स्थापनाक सवालम कहल।
निश्चयफे संघीयतावादी शक्ति सक्कुजन बिना मिल्ल हम्र थरुहट नैपैबी। मगरात, लिम्बुवान, तमुवान, नेवाः, खसान आदि जातीय आधारम संघीयता स्थापना कराई नैसेक्बी यी बाट सत्य हो। तर आबक मुख्य सवाल का हो कलसे आपन नेतृत्व उपर विश्वास कर नैसेक्ना नेतन और जन्हक अगुवाई कसिक स्वीकर्ल? का थरुहट प्राप्तिक लाग मधेसी मोर्चासे कार्यगत एकता कैक लर नइ सेक्जैने रह? थरुहटक अस्तित्व पहिचान नामेट कर्ना मधेसी पार्टीम जाक केल थरुहट पैना वैज्ञानिक वा विश्वास कर्ना आधार का? अखण्ड सुदूरपश्चिमक विरुद्धम थरुहटक आन्दोलन करबेर सामान्य नैतिक समर्थन बाहेक कैठो मधेसी दल सक्रिय सहभागिता जनाइल? अप्नह गृहमन्त्री रहल ब्यालम शान्ति सुरक्षा कर नैसेक्ना, सु.प.अखण्डवादीनक विरोधक कारण कैलालीक् अत्तरीयाम तात्कलिन उपप्रधान ओ गृहमन्त्री गच्छदार जसिन मनै छिर नइसेक्क भाग पर्ना लाजमर्दो अवस्था थरुहटबासी मधेसीक वकालत करुइया नेतन मजासे चिन्ह सेक्ल बाट, बुझसेक्ल बाट। जौन पार्टीक नाम घोषणापत्र, विधानसहित राजनीतिक दस्तावेज थरुहटक विरुद्धम बा, उह पार्टीम जैना स्वार्थ का? उत्तर रहस्य गर्भम नुकल बा। तर नीहित स्वार्थक लाग गइल लठैत राजनीतिक गद्दार थारू नेतन जब राजनीतिक हण्डर खैही, टब एक ना एकदिन सत्य तथ्य जरुर बाहेर आई। ओकर लाग ढिउर नाई, संविधान सभाक चुनाउसम्म केल हेरपरी, ओकर परिणाम सबक साम्ने आजाई।
आबक् आम थरुहट तराईबासीन बुझाई ओ सत्यबाट का हो कलसे आपन नेतृत्वमन छ/सात ठो राजनीतिक संगठनक अगुवाई करल लक्ष्मण थारू मधेसी फोरम प्रवेश करल पाछ बर्वार समुन्दरम एक बुुन्दा पानीहस बिल्ला गिल। थरुहटक अध्यक्ष होक ख्यालल् अंगना बर्हिगमन हुइटीक साक्किर होगिलिन। थरुहटक जगलेक सञ्चार जगतम छाईल लक्ष्मण थारू विजय गच्छदारक छाँहीम पर्गिल। फोरमन जग बलगर बनाक बैठल मधेसी नेतनक आघ हुँकाहार कौनो निर्णायक स्थान नैरहीगिलीन। मधेसीनक नाउँम थरुहट तराईम राजनीति कर सेक्ना कौनो आधार फे नैरहीगिलीन। ओहमार फेरसे थरुहटक ख्वाल ओंहर्टी ‘थरुहट तराई लोकतान्त्रिक परिषद्कँ नाउँसे भ्रमक राजनीतिक खेती कर्ना हर्कत कर्टी बाट। ईह परिषद्क ख्वाल ओंहर्क थरुहट तराईबासीन् दिगभ्रमित करैटी मधेसीनक स्वार्थह मलजल कर्ना राजनीतिक अवसरवादी गद्दार हुँकहनसे आम थरुहट तराईबासी सचेत हुइना जरुरी बा।
उपेन्द्र यादवक अनुसार इह असार २५ गते आइल भारतक विदेश मन्त्री सलमान खुर्सिदह कुटनीतिक मर्यादा बिस्रटी काठमाडौ बत्तीसपुतलीक द्वारिका होटलम मधेसी नेतनक संयुक्त भेटघाटम ँथरुहटक मै बरवार ओ विश्वास पात्र एकमात्र नेता समेत हुइटुँ लाज नैमान्क कह पाछ नैपर्ना गच्छदारक बाटह खुर्सिद हावाम उराडेलीन। थरुहटक नेतन प्रयोग कैक सत्ता ओ कुर्सीक रसास्वादन लिह पर्चल मधेसी नेतनक यी हठकण्डा कौनो लौव नै हो। मधेसीनक चंगुलम फँस्टी थरुहट नेतन अप्नह अप्नह लर्ना, फुट्ना ओ मधेसी दलहुँक्र जश लेना काम निरन्तर रुपम हुइटी बा। टब्बुपर थरुहट नेतन एकठाउँम आई नैसेक्ना यी बरा भारी दुर्भाग्य हो।
थारू संयुक्त संघर्ष समितिक आयोजनम २०६९ बैशाख ८ ओ ९ गते चितवनम सम्पन्न हुईल थारू राष्ट्रिय गोलमेच सम्मेलनक मुद्दा, सवाल ओ उपलब्धीह खतम कर्ना नियतक साथ ठिक एक अठवार पाछ अर्थात् बैशाख १५ ओ १६ गते संघीय लोकतान्त्रिक राष्ट्रिय मञ्च (थरुहट), सहित नेपाली काँग्रेस ओ मधेसवादी दलम आवद्ध रहल कुछ थारू नेतन मधेसी नेताहँुक्र प्रयोग कर्टी संयुक्त लोकतान्त्रिक थारू मोर्चाके आयोजनाम काठमाण्डौम ँराष्ट्रिय राजनीतिक थारू सम्मेलनकँ नाउँसे एकतक सन्देशम दिगभ्रमित करैटी फुट लन्ल। २०६६ जेठ ३० ओ ३१ गते बीरगञ्जम कैगील राष्ट्रिय भेला सबल सक्षम ओ राष्ट्रिय राजनीतिक पार्टी बनैना कैक २०६६ असोज ५ गते चितवनक राइनो होटलम करल राष्ट्रिय बैठक, २०६८ सालम बर्दियक् भुरीगाउँम सम्पन्न हुईल ‘राजनीतिक एकताक प्रयासहँ सार्थकताम परिणत हुई ईह मधेसवादी दल हुँकन्हक चलखेलक कारण हुई नैसेकल यथार्थ हो।
भैरहवाम सम्पन्न हुईल थरुहट तराई लोकतान्त्रिक राष्ट्रिय मोर्चाक ‘राष्ट्रिय भेलासेँ ट योगेन्द्र चौधरीक अगुवाइम लावा राजनीतिक शक्ति बनैना कैक थरुहटबासीन् जनादेश डेहल मुल यी जिम्मेवारी बहन कर छोर्क धुलमुल धुलमुल कर्टी मधेसी दलक छत्रछाँयासे बाहेर जाक काम डेखाई नैसेक्ल। ‘मै आदिवासी भूमिपुत्र थारूक छावा हुइटु, म्वार नसा नसा मन थारून्हक जिन बाँ कहना तर थरुहटक एकताक लाग कब्बु संवेदनशील नैहुइना गच्छदार एक एक कैक थरुहटक नेतन झप्वासअस आपन पार्टीम लन्ना रणनीति हो कहटी थारू विद्यार्थी समाजक कार्यक्रमम बोल सेक्ल बाट। यदि सच्चा थरुहट प्राप्तिक लाग उहाँ सकारात्मक बाट कलसे कैडिहट करिब तीन चार वर्ष आघसे निरन्तर रुपम उहाँक नेतृत्वम लावा राजनीतिक शक्ति बनाई तर उहाँक पार्टीक नाउँ, विधान, घोषणापत्र संशोधन कैक सक्कुजन्ह एकठाउँ आई कैक थरुहट नेतनसे प्रस्ताव ढर्टी बहुट चो छलफल हुइल। तर उहाँ थरुहट नेतन नजर अन्दाज कर्टी एक फुटल कौरी बराबर फे नै ठन्ल। छलफलक नाउँम थरुहट नेतन झुक्यैटी, भुलैटी संविधानसभाक पाछ करम कहटी आलटाल कर्ल। उ मौंका ओ अवसरह काजे सकारात्मक रुपम नैलेल?
थरुहट आन्दोलनक सबसे भारी राजनीतिक जस लिहुइया, राज्य सत्तक उच्च स्थानम पुगुइया गच्छदार आज फेरसे पार्टीक नाउँ संशोधन कर्नु कैक लर्कन् ललीपप् मिठाइअस लौभैटी बाट। थरुहट नेतन प्रयोग कर्टी राजनीतिक टुरुपक रुपम लावा जाल फँकैल बाट। आब यी मधेसी रुवार्थरुपी जालम थरुहटक अगुवाहुँक्र नापरट कैक जालक सिंगा काटपर्ना जरुरी बा। ढिंगुल पानीम मच्छि मार पर्चल मधेसी नेतनक जालक घई काट पर्ना बा, जालक गेंटी फोर्क पानीम उत्राई पर्ना बा। ओकर लाग सक्कु थरुहट तराईबासी एकजुट होक आब डट्क लाग पर्ना जरुरी बा। थरुहटक ख्वाल ओंहर्क मधेसीनक गुलामी कर्ना अवसरवादी राजनीतिक गद्दार नेतनसे सचेत हुईटी खबरदारी कर पर्ना बा। नै ट पाछ मुरी पकर्क चुक्चुकैटी, पस्टैना बाहेक और कुछ नैरही।
लेखक थरुहट तराई पार्टी नेपालके सचिव हुइट
साभारः २०७० साउन १, गोरखापत्र

5 thoughts on “खोल थरुहटके, राजनीति मधेशके (थारु भाषा)

  1. यी लेखमे सत्यता बा मिनराज जी । बास्तवमे सँघरीयाहुक्र अपनपर अपनही बिश्वास नाइकरके हडबडा गैल अवस्था हो । मिहिन लागठ,उ सँघरीयन सोंचलहसक भाउ उ पार्टीमे फे नाइमिलहिन ।

  2. sahi kura garnu bayo.hami tharu haru lai agadi badhan na dine hamrai tharu jati kai kehi gaddar neta haru chhan.

  3. म पनि थारु हो तर नवलपरासीको !

    जब यो website संचालनमा आयो मलाई एकदम खुसि लागेको थियो . किन कि म अब आफ्नो जातिको महत्व बुझ्ने छु र आफ्नो जतिको इतिहास थाहा पाउने छु .
    ठाउँ अनुसार थारुहरुमा भाषा फरक छ , तर जात त एउतै हो हामी .हाम्रो सोच एउतै हो ,तर मलाई तपाई हरुले लेखेको भाषा बुझ्न धेरै गार्हो हुन्छ .त्यस कारण कृपया तपाई हरुले भाषामा परिवर्तन गरे, म जस्तो हजारौ पुर्बेली थारु हरु छन् जुन हामी आफ्नो पहिचान र इतिहासको बारेमा अझै धेरै ज्ञान पाउने थियौ .
    धन्यबाद

  4. थरुहट को खोल ओढेर मधेश को राजनीति गर्ने नालायक गद्दार हरु सर्प झै काचुल फेरेर आफ्नो अस्तित्व समाप्त पारी सकेकछन । एस्ता थरुहट का अस्तितव र पहिचान लाई समाप्त पार्न खोज्ने दलाल हरु लाई गाउ गाउ बाट बहिस्कार गर्नु पर्छ । ५ वटा थरुहट वीर शाहीद हरुको सपना लाई लत्याएर रुपैया र पैसा को लोभमा पारी थरुहट भुमी लाई बेच्न खिज्ने दलाल हरु लाई फासी दिनु पर्दछ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.