मोबाइल बठिन्या

देवराज चौधरी- – हेल्लो ! हेल्लो !! – हजुर चिन्हली ? – हाँ, हाँ राम राम ! अस्टे प्रसंगसे बात सुरु हुइल। हालचाल, घरव्यवहार, अध्ययन, भइवा, बहिन्या, पारिवारिक जीवनके बारेमे ढीरे ढीरे मोबाइलमे बात हुई लागल। सायद पहिलेँहिँसे परिचित हुइल रहिट ऊ, जरुल डेख्ले फेन रहल हुँइही, टब्बे टे बरे घचिक हाँस-हाँस बोलट डेख्जाए।

हमारहस् दयनीय पारिवारिक जीवन बिटैना मनै बरेघचिक मोबाइलसे अनावश्यक बात कैना मही ठीक नै लागल। भल्ही ऊ मोर घरक नै हुँइट । कमसेकम मोर गाउँक टे हुँइट । केकरो छाई, दिदी बहिन्या, नतिन्या या नतिवा टे हुँइट। आखिरमे यी बात फेन टे आपन गाउँघरके इज्जतके सबाल हो काहुन्। डोसर जन्हनके बारेमे अपने टेन्सन उठैना फेन उचित टे नै बिल्गाइठो। सायद यी मोरिक कमजोरी हो, टब्बे टे डोसर जन्हुनके बारेमे बरबराइटुँ।

घरायसी सामान नानक लग बजार जैना रलक ओरसे मकै ठठाके बोरामे भरके सइकिल लेके चल्लुँ। घामुक मारे जम्मा कपडा पस्नालेके स्वाडबोड हुगैल। साइट बिगरल रहे काहुन्। काल्ही ट् बह्रियासे सइकिलके चक्का छम्ले रहुँ। टौन पछिल्का टायरके हावा निकरके परेसान हुइल। बहुत मुस्किलसे बजार पुगाइल। बजारमे घुमेंबेर डेख्लुँ, एकठो लवण्डकसँगे फिलिम हेरे जाइट। आज टे कौनो विदाके दिन फेन नै हो। स्कुल अइना बहानामे संघरियनहे किताब डेके मौज लुटक खोज्ना। भविष्य टोहारे हाँठमे बा, जौन इच्छा बा करो। बुह्रियासे गरिवा पाइक डरे मचैलुँ ठोँठ्रे सइकिल सरासर घरे। कसोंहोंक बेर ना होजाए कैहके।

सन्झक् बेरी खाके लसरी बँट्टहुँ। बारी ओर… हलो !, हाँ हाँ सुनटुँ। घरे पुग्‍रख्ले बटुँ। हाँ मजासे पुग्लुँ। टुँ झे, फिलिम हेरबेर मजा लागल। असिन सुग्घर फिलिम रना कार हिरोनिक दुःख डेख्के मै टे खोब रोइलुँ। मोरिक रुमाल डेहो नै टे पिटम, बरा चुपेचुपे लेले रना। कौन कोह्रिया पाछेसे खोब टाने टुहिन नै बटैले रहुँ। एक लात चट्का डेनास लागे। नाही अभिन बेरी नै खैले हुँ। बेरी खालेम् टे सुटम्। अकेली टे सुत्ठुँ। कहुन डरैम ?….. माही रिस लागटा। झोटा पकरके डेहल हुइट टिन्टिनवा। जिन्गी कलक ऐसीन खुरबुस्नी लर्कनहे का पटा। कमसे कम डाईबाबा टे हाँकडाँक लगैना हो। लसरी बटुँ कि बठिन्यक राम कहानी सुनूँ। अभिन ….. टुँ ओहो रबो टे कैसिक मिलैम। समनैठुँ कि, कबो नै मजा, कबो मजामजा। डाई टे नै गरियाइठ्। कबो कबो बाबा भर गरियाइठ। मैं रोइ लग्ठुँ टे कुछ नै कहठ्। डाई फेन बाबाहे गरियाइ लग्ठिस्….. यी कोह्रिन्यक बात अपनिनहे कत्ना सुनाउँ, रातभर अस्टे करी, बनकस फेन ओरागैल। जाइपरल सुटे। काल्ह फेन अनुगुट्टी झलारिन ठन किल्ला काटे जैना फाँट परल बा।

बिहान ५ बजे ओर उठ्के हडरबडर बाँका खोज्लुँ। ओंह्रे ठउरा रुक्गैलुँ। उह लवण्डीक बाबा रहिस। आइ टे हाली कल्वा खैना दिन होजाइठ्। अघरिया फेन गरियाई लागठ्।

– (लग्गे पुग्के) चली नेँगी अपनिन संघरिया पारख्लुँ, कौनो चिन्ता नै हो।

– भाइ भेट हो रख्‍ली एकठो बात कनाह् लागटहे। (मै बात खिट्कोरलुँ)

– (अन्कैटी) मै बुझ्गैलुँ, ओहे मोबाइलिक बात टे बत्वइबी। मै फेन परेसान बटुँ। एक दिन टे पट्के जाइटहुँ। बुह्रिया लागल मनके गरियाई १/२ जुन भाते नै खाइल। खा चाहे मर कैह्डेलुँ। कहाँकि भटार रोज्ले बा थर ना ठेगान। रात दिन उहे बेलो बटिस्।

– (सम्झाइहस्) भाइ मै फेन बहुत सोंच्लुँ, डुन्हुके घर एक्के ठन बा। सब चिज डेखटुँ सुनटुँ। अपनिक लर्कीन डेख्के मोरे लर्का सिख्ही। गाउँक इज्जतके सवाल बा। कहुँ मुँह डेखैना लायक नै रह्जैबी।

– (मन मरले) अपनी फेन सङ्गजाडेबी टे। मही फेन मनके रिस लाग्‍रख्ले बा। उल्टे बुह्रिया महिँहे मन्के गरियाइ छुटठ्। कमसेकम लवण्डा कहाँक हो बताइट टे भला थर ठेगान पत्ता लगैटी।

– ठीक कली भाइ मोर विचार फेन उहे हो। गाउँ, ठाउँ पत्ता लगाई सौंप डी। जब जोरियक खोज्नी बा टे, भोजे कैके पटा करिट, का करे गाउँ समाजमे अपन नाक कट्वाए।

– (विचार करटी) दाजु। भक्खर असौं फेन घर छवैलुँ। भोज कैना हिम्मत टे नै हो। लवण्डक घर चिन्हे परल, ओकर का विचार हुइन्।

– (जोर लगैटी) रोजके तमाशा भर नै बनाइ परल। गाउँक मनै बात काटे लग्लाँ। टनिक हाली करे परल।

डग्गर कट्ना हिसाबले अस्टे बात चलल्। वास्तवमे अपन ओरसे जोर नै लगैलक नै हुइँट, सायद हुँकार ठाउँमे मै रटुँ टे मोरे हालत फेन टे गड्वडाइल रहट कि कैसिन? मनैनके इहे बाने रहठ, डोसर जन्हुन कहे पैलेसे बारेमे कोइ नै सोंचठ्। कि अइना दिने मोर फेन अइसिन अवस्था आई। आइबेर फेन सँगे अइली, लेकिन खास बात नै कै गइल। का करे बात डोहोर्‍याए। जान ज्ञान सबके ठन अपन मेरके रहठ्।।

– (घर पुग्‍के) अइ ! आगैलो हाली हाँठ गोर ढोउ ओ खाना खाइ आऊ। (खाइबेर) यी बठिन्या कहिया टे उर्हरके जैठिन। आझ सकारे भर कहाँक ठरवासे बत्वैले बटिन, सब जन्हुन सुना सुना। सबजाने छक परके दंग परल बटाँ। बात फेन कौन-कौन मेरके बत्वैलक हो। लाज नै रलक नक्टी छिनारी बठिन्या। जानो कि गाउँमे इहे लवण्डिक किल आँङ-डेह फुलल बटिस, आउर घरक लवण्डिनहे टे अइसिन नै सुन्बो। यी मोबाइल फेन के बनाइल हुइ। हमार जवानम् टे फोनी ना फोना… ।

जन्नी फेन बोले पैठा टे के सेकी ओइनसे। घरक का बात, का चित्त बा। लगैले बा तार ओहे बठिन्यक कैसिक गैलो, अइलो लर्का कहाँ बटाँ, घरक बारेम बत्वैना कहाँ गैलिस। ओहे टरासन मारटा। मिच्छाइल जीउ जेनवा हे घघोटक का करे अपनहे आउर कमजोर बनाउँ। चुप्पे भात खाके एक घचिक सम्ठाके चल्डेलुँ कुल्वा ओर, जहाँ मोरिक ड्युटी रहे।

उहाँ फेन उहे बातके चर्चा। आपन-आपन पाले। झलारीनके बोली टे सुन्ले हुइबी ना। किहुसे डरैना हो, ना कोइ छोट जन्ही। वास्तवमे यी व्यवहार सुधार हुइ टे गाउँ समाजमे एक दुई सिँढी उचियइनामे टेवा मिलट। सकारात्‍मक सोंचाइके टे कोइ बाटे नै रहल, ढेउरहस् लवण्डीहे दोषी डेखैलाँ, कोइ लवण्डा हे, घरक मनैन, मोबाइल बात हे।

डोसर दिन हुइल। बाहेर ओर। राम ! राम!! भाइ कहटी घरक भित्तर पैठ्लुँ। खिसियाइल जीउक मारे हुइन् काहुन नै बोल्लाँ। बहुरिया पस्कातिर बैठल रोइटिंहिंट्। उहाँ वातावरणले पत्ता चलल ऊ गडह्‍ैयक परसाड् यी दिन डेखल परल कना बात केर। जवान छाइ रहे, चिन्ता जिन करी ओकर कर्ममे अस्टे लिखल रहिस्। एक ना एक दिन अइबे करी। जा हुइल हुऊैल नरोऊ बहुरिया कना बातके सहानुभूति जनैटी मै फेन निरास हुइटी निकर डेलुँ।

कौन पता एकठो मोबाइलके कारणले जवान छाइक गाउँ समाजमे इज्जत टे गैल-गैल, कहाँ गैल कना बातके समेत ठेगान नै रह्‍गैल। इहे परस्थिति मोर गाउँघरके जवान लर्का-लर्की डेखिक डेखा कैंही टे अभिन नै पछगुरब कहे नै सेक्जाइ। हाइ रे मोबाइल टोर कहानी, के जानी।

[तपाईँसँग पनि यस्तै थारु भाषाका साहित्‍यिक लेख/रचना छन् भने हामीलाई tharuwannews@gmail.com मा पठाउनुहोस्।]

3 thoughts on “मोबाइल बठिन्या

  1. la la devraj ji tapaeko bichar bahutae Ramro 6 yo lekh padhada kheri lagyo malae aagaami din ma yo vanda better lekh rachna ko expectation garxu.

Leave a Reply

Your email address will not be published.